Tuesday, May 10, 2016

चल रे मन !


चल रे मन 
बतिया ले खुद से ,
मत डर ,
दुनिया के डर  से । 

घबराए, धमकाए 
अँधेरा जब ,
निराशा भर कर,
 संग लाये जब ,
पलट कर, घूम कर ,
धकिया दे उसको ,
गहरी साँस खींच कर भीतर ,
फूँक मार उड़ा दे उसको । 
चल रे मन 
बतिया ले खुद से ,
मत डर ,
दुनिया के डर  से । 

अकेलापन जब घर कर जाए  तुझमे ,
खुद को खुद का साथी बना ले तब  तू ,
घूमती नदियों, ऊँचे पहाड़ों की कहानी सुना ले तब तू ,
बंद कर आँखें ,
सारी दुनिया खुद को खुद से घुमा ले तब तू । 
चल रे मन
बतिया ले खुद से ,
मत डर ,
दुनिया के डर  से । 

बिखरा हो जब आस का तिनका तिनका ,
ना पता हो रात का , ना दिन का ,
समेट कर टुकड़े  तब सब तू ,
जोड़ कर बना नीड़ हिम्मत का तू ,
खुद को खुद की सीढ़ी बना रे तब तू ,
चल रे मन
 बतिया ले खुद से ,
मत डर ,
दुनिया के डर  से । 

राह बंद हो ,
रुकी डगर हो 
पगडण्डी को साथी बना ले तब तू 
बीन कर राह से कंकड़ों को ,
दिशावान सूरज बन जा रे तब तू 
चल रे मन
 बतिया ले खुद से ,
मत डर ,
दुनिया के डर  से । 

रेगिस्तान सा तपता हो जब,
मृगतृष्णा में  भटका हो जब,
थक कर बैठ मत जा रे तब तू ,
कुआँ अपना खोद कर दिखा रे तब तू  ,
मीठा पानी  बन जा रे तब तू । 
चल रे मन
 बतिया ले खुद से ,
मत डर ,
दुनिया के डर  से । 

चोट खा हार मत मान  जा रे तू ,
सोने सा पिघल मत जा रे  तू ,
पहचान खुद को झाँक कर भीतर ,
तू लोहा है ,
लोहे सा डट जा रे  अब तू । 
तू लोहा है ,
लोहे सा डट जा रे  अब तू । 

Thursday, April 7, 2016

भूख

कहीं गोद में कहीं  उंगली थामे खड़ी होती है
हाथ फैलाये बेबसी में बड़ी होती है ,
भूख स्कूलों -मदरसों के पाठ  से बड़ी होती है |

खाली बर्तन, ठन्डे चूल्हों में रखी होती है
टपकती छतों और खाँसती दीवारों  में पली होती है ,
भूख अकेलेपन  के  साथ सदा जुड़ी होती है ।

नाकामियों से नाउम्मीदियों में ,
नाउम्मीदियों से नाराज़गियों में तब्दील हुई होती है ,
आग उगलती भूख इंसानी जज़्बों से बड़ी होती है ।

अँधेरा बुझा स्ट्रीट -लैम्प की रोशनी में पढ़ी  होती है ,
बिना चाँद वाली रात पर उगते सूरज के हस्ताक्षर कर रही होती है ,
सफलता की भूख, दुश्वारियां ख़त्म करने की ज़िद पर अड़ी होती है |

घर- परिवार, प्यार-दोस्त यार से दूर,
बड़े शहरों की तंग फुटपाथों पर बेघर पडी होती है ,
भूख सर पर प्यार की छत से बड़ी होती है |

पैबन्दों में सिल -सिल फिर ज़ार -ज़ार घिसी होती है,
मिट्टी के दाम सरे-आम बाज़ार में बार-बार बिकी होती है ,
थिरकती नाचती भूख मान-सम्मान के दस्तूरों से बड़ी होती है |

फाकों से खाकों तक साथ चली होती है ,
मज़हब छुपा कभी मंदिर के प्रसाद में, कभी इफ़्तारी में शरीक हुई होती है ,
भूख राम -रहीम की पहचान से बड़ी होती है ।

सूखे और बाढ़ की साथी होती है ,
क़र्ज़ और परज़ के साथ ताल मिलाती चलती है ,
भूख किसानों के गले में फंदे सी कसी होती है |

भटकाने को कभी, भड़काने को कभी ,
मासूमों के खून से हाथ रंगे होती है
सत्ता की भूख मक्कारियों से भरी होती है ।

तिजोरियों में कभी,
स्विस बैंकों में भरी होती है,
पर भरे पेट वालों की भूख उसूलों से बड़ी होती है ।





Friday, September 5, 2014

ये सिक्के खनक- खनक, दिलचस्प किस्से कई कहते हैं


बेटे की पिग्गी बैंक की जमा-पूँजी 

और मेरे बचपन की  मिट्टी की गुल्लक ,
सिक्के अलग, पर कहानी वैसी ही दोहराते |
जैसे मेरी पंजी, दस्सी, चवन्नी, अठन्नी , 
वैसे उसके डॉलर, क्वार्टर, निकेल, पैनी |
कुछ चमकते  नए  से,  कुछ सकुचाते-पुराने, 
कुछ तीन दशकों को ओढ़े, मेरे जन्म के साल के,
 पर  उनमें कुछ अब भी बिलकुल नए  से,
और कुछ मेरे जैसे ही हर दिन पुराने  होते  से | 

कुछ बेटे के जन्म के साल के,

soccer गेम में toss  करा,
कभी हेड्स कभी टेल्स की कहानी सुनाते  से,
कुछ पुराने  हो तजुर्बों पर इठलाते - इतराते से,
कुछ गुल्लक की गुलामी, चमक के पीछे छुपाते  हुए  |

गुल्लक भी नित नए- निराले किस्से सुनती होगी इनके,

जो कभी गाड़ी से Toll खिड़की या भिखारी की तरफ उछले होंगे,
 या कभी मैली हथेली में मजदूरी बन दबे होंगे,
कभी पूजा की थाली या कभी फकीर की दरगाह पर चढ़े  होंगे |
कुछ लापरवाही से खो गए होंगे,  कुछ अचानक पाये गए होंगे 
कुछ एयरपोर्ट पर स्कैनिंग में उपस्थिति दर्ज करा आये होंगे,
जब जेब में अनजाने किसी कोने में छुप आये होंगे |

कुछ पर साल तो पिछला ही गढ़ा है, पर खुरदुरे  से  हैं 

और  जंग खाए हुए , पुराने से दीखतें  हैं,
शायद मन्नत-मुराद के लिए पानी में डाले  गये  थे,
और फिर मछली के पेट से निकाले गए  थे  |


कुछ खुशियों के भागीदार हुए होंगे, कुछ गम में शरीक 
और हथेली बदलते हुए गीता, कुरान, बाइबल सबके हुए  होंगे मुरीद ।  
हर एक ने जाने कितनी  हथेली, बटुए, गुल्लक,तिजोरियों को देखा होगा ,
किसी को कुछ पल या कुछ  दिन, किसी को बरसों अपनाया होगा । 
रोज नया अहसास बन , सोचो तो, कहाँ से कहाँ चले आये होंगे 
इसलिए आज जो इस गुल्लक में हैं ,कल वो ज़रूर पराये होंगे 
इस दुनिया की धमनियों में रक्त बन बहते हैं ,
ध्यान से सुनो तो ये सिक्के  खनक- खनक, दिलचस्प किस्से कई कहते हैं |